Exclusive: मोहित ने माना, इंटेलिजेंस का भाषा से कोई लेना देना नहीं

Exclusive: मोहित ने माना, इंटेलिजेंस का भाषा से कोई लेना देना नहींExclusive: मोहित ने माना, इंटेलिजेंस का भाषा से कोई लेना देना नहीं

अनुप्रिया वर्मा, मुंबई. मोहित सूरी की फिल्म हाफ गर्लफ्रेंड का नायक माधव झा फिल्म में बिहार की पृष्ठभूमि से है। मोहित का मानना है कि आमतौर पर बिहारियों को लेकर काफी क्लीशे( घिसे-पीटे) किरदार दिखाये जाते रहे हैं। लोग दिखाते हैं कि कोई पॉलिटिशियन है, खराब से बोल रहा है तो वह बिहारी होगा। कोई गैंगस्टर है तो वह बिहारी होगा लेकिन कोई रोमांटिक है तो ज्यादातर वो किरदार बनारसी या मुंबई या किसी अन्य राज्य के दिखाये जाते हैं लेकिन इस बार माधव झा की प्रेम कहानी दर्शक हाफ गर्लफ्रेंड में देखेंगे।

मोहित ने बताया कि वह बिहार के बारे में इतना सबकुछ नहीं जानते थे। वह खुद स्वीकारते हैं कि हां, यह सच है कि हम कई बार मेट्रो में रहने वाले लोग अपनी दुनिया में मग्न रहते हैं। हमें बाकी चीजों का बहुत पता नहीं होता है लेकिन चेतन भगत की वजह से वह बिहार के समृद्ध कल्चर और इतिहास के बारे में जान पाये हैं कि वहां ही सबसे प्राचीन विश्वविद्यालय है। सीतामईया की नगरी। शेरशाह सूरी और मौर्य वही से हैं। वहां के लोगों में अपना अदब होता है। मोहित कहते हैं कि हो सकता है कि बिहारी भाषा के लोग अंग्रेजी लहजे को बोल न पाते हों या चूक जाते हों लेकिन वह कमजोरी नहीं है बल्कि वह तो हम सबसे अधिक इंटेलिजेंट हैं। ऐसा उन्हें महसूस हुआ। उन्होंने यह बात भी स्वीकारी कि इंटेलिजेंस का भाषा से कोई लेना देना नहीं है कि जिसे अंग्रेजी नहीं आती तो वह कुछ भी नहीं जानता। बल्कि बिहार के लोग पॉलिटकली भी ज्यादा अवेयर रहते हैं।

यह भी पढ़ें:Exclusive: तो क्या नजर आयेंगे इंडिया का असली चैंपियन कौन फिनाले में संजू बाबा 

मोहित ने बताया कि उन्होंने फिल्म की शूटिंंग के दौरान बनारस से पटना तक की दूरी तय की वह भी कार से ताकि बिहार को वह अपने नजरिये से एक्सप्लोर कर पायें। फिल्म में वह बारीकियां नजर आयेंगी। बिहार में दुकानों पर लोगों का आपस में बातचीत करना, ठेले, आत्मीयता जैसी चीजों ने उन्हें काफी प्रभावित किया। मोहित को अपने इस किरदार से इसी वजह से प्यार भी हो गया।

Tags:
author

Author: