10 साल, 4 टीमें, वही चमक जारी, इस खिलाड़ी ने फिर खेली जोरदार पारी

10 साल, 4 टीमें, वही चमक जारी, इस खिलाड़ी ने फिर खेली जोरदार पारी10 साल, 4 टीमें, वही चमक जारी, इस खिलाड़ी ने फिर खेली जोरदार पारी

(शिवम् अवस्थी), नई दिल्ली। रॉबिन उथप्पा का नाम उन क्रिकेटरों में गिना जाता है जो पिच पर चाहे किसी भी स्थान पर बल्लेबाजी करने आएं, उनका काम एक ही रहता है, गेंदबाजों की धुनाई। शुक्रवार रात भी कुछ ऐसा ही हुआ जब वो गुजरात लायंस के सामने थे।

– रैना के गेंदबाजों के पसीने छूटे

पहले बल्लेबाजी करने उतरी कोलकाता की टीम को सुनील नरेन (17 गेंदों पर 42 रन) वैसे भी अच्छी शुरुआत दे चुके थे, अब बस जरूरत थी इस बढ़त को सही दिशा में ले जाने की। कप्तान गंभीर का पिच पर साथ देने पहुंचे रॉबिन उथप्पा और फिर इस खिलाड़ी ने जैसी बल्लेबाजी की, उसने मैदान पर मौजूद घरेलू टीम के हजारों फैंस को झूमने पर मजबूर कर दिया। उथप्पा ने 48 गेंदों पर 72 रनों की धुआंधार पारी खेली। इस दौरान उथप्पा ने 150 के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी की और 8 चौके व 2 शानदार छक्के जड़े। हालांकि उनकी ये मेहनत बेकार गई क्योंकि 188 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी गुजरात की टीम ने अपने कप्तान सुरेश रैना (84) की पारी के दम पर 4 विकेट से जीत दर्ज कर ली।

– हैदराबाद के खिलाफ भी मचाया था धमाल

इससे पहले पिछले शनिवार को भी कोलकाता में उथप्पा का बल्ला जमकर गरजा था। उथप्पा ने उस दिन डिफेंडिंग चैंपियन टीम हैदराबाद के खिलाफ 39 गेंदों पर 68 रनों की पारी खेली थी। उस पारी में चार छक्के और पांच चौके शामिल थे। वो मैच कोलकाता ने 17 रन से जीता था। अब इस आइपीएल में उथप्पा के 6 मैचों की 5 पारियों में 174 रन हो गए हैं। इसमें दो अर्धशतक शामिल हैं।

– 10 साल, चार टीमें, हमेशा छोड़ा प्रभाव

रॉबिन उथप्पा 31 साल के हो चुके हैं लेकिन उनकी बल्लेबाजी का आक्रामक अंदाज आ भी जारी है। उन्होंने हमेशा से जिस अंदाज में बल्लेबाजी की, उसी तरह विकेटकीपिंग में भी कोई कसर नहीं छोड़ी। वो उन चुनिंदा खिलाड़ियों में हैं जिन्होंने आइपीएल के हर सीजन में हिस्सा लिया है। इस बीच वो चार टीमों के साथ जुड़े। शुरुआत मुंबई इंडियंस के साथ हुई, फिर रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर टीम में गए, उसके बाद 2011 की नीलामी में पुणे वॉरियर्स ने उनको खरीदा और फिर 2014 में उन्हें कोलकाता ने खरीद लिया जिसके साथ वो अब तक कायम हैं। आइए जानते हैं कि इस सीजन से पहले यानी 2008 से लेकर 2016 तक 9 आइपीएल सीजन में उनका प्रदर्शन कैसा रहा था।

2008-  14 मैचों में 320 रन 

2009-  15 मैचों में 175 रन

2010-   16 मैचों में 374 रन

2011-    14 मैचों में 264 रन

2012-    16 मैचों में 405 रन

2013-    16 मैचों में 434 रन

2014-    16 मैचों में 660 रन

2015-     13 मैचों में 364 रन

2016-     15 मैचों में 394 रन

क्रिकेट की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Tags:
author

Author: 

Leave a Reply