‘सेना बैतुल्ला को निशाना बनाएगी’

बैतुल्ला महसूद अपनी फ़ोटो खिचवाना पसंद नहीं करते हैं

सरहदी सूबे के गवर्नर ओवेस ग़नी ने बताया कि सशस्त्र बलों को कहा गया है कि वे बैतुल्ला महसूद और उनके लड़ाकों को निशाना बनाएँ.

हालांकि उन्होंने ये स्पष्ट नहीं किया कि अभियान कब शुरू होगा, बस इतना कहा कि ये जल्द शुरू होगा.

ओवेस ग़नी ने बैतुल्ला महसूद को पाकिस्तान की परेशानियों का जड़ बताया और उन्हें पाकिस्तान में हाल में हुए आत्मघाती धमाकों का
दोषी ठहराया.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि इससे आधिकारिक रूप से इस बात की पुष्टि होती है कि स्वात घाटी के बाद पाकिस्तानी सेना दूसरा मोर्चा
खोलने जा रही है.

लेकिन विश्लेषकों का मानना है कि दक्षिणी वज़ीरिस्तान में सैन्य अभियान स्वात घाटी से कहीं कठिन होगा.

अभियान

उल्लेखनीय है कि बैतुल्ला महसूद पाकिस्तान के दक्षिणी वज़ीरिस्तान इलाक़े में तालेबान के प्रमुख नेता माने जाते हैं.

 सशस्त्र बलों को कहा गया है कि वे बैतुल्ला महसूद और उनके लड़ाकों को निशाना बनाएँ

जनवरी, 2007 में मैरियट होटल में हुए आत्मघाती हमले में उनके समर्थकों का हाथ होने का संदेह व्यक्त किया गया था.

उनका नाम पूर्व प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो की हत्या से भी जोड़ा गया था. हालांकि उनका कहना था कि बेनज़ीर पर हुए हमले से उनका
कोई लेना-देना नहीं था.

ख़बरों के अनुसार बैतुल्ला के पास लगभग 20 हज़ार तालेबान समर्थक लड़ाके हैं. इनमें से अधिकतर महसूद कबीले से हैं.

ये इलाक़ा अल क़ायदा और तालेबान के लिए सुरक्षित पनाहगाह माना जाता है.

बैतुल्ला महसूद के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने इस इलाक़े में बड़ी संख्या में उन लड़ाकों को पनाह दी जो अफ़ग़ानिस्तान में
हमले करते हैं.

इसमें आत्मघाती धमाके और अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद अंतरराष्ट्रीय सेना के ख़िलाफ़ सीमा पार से हमले करना शामिल है.

पाकिस्तानी सेना ने दक्षिण वज़ीरिस्तान के इस इलाक़े को चरमपंथियों से मुक्त कराने के लिए पहले भी कई अभियान चलाए लेकिन कामयाबी
नहीं मिली.

Tags:
author

Author: