मैसूर में सांप्रदायिक हिंसा, तीन मरे

मैसूर में पहले भी सांप्रदायिक दंगे होते रहे हैं

इनमें से दो की मौत दोनों संप्रदायों में हुई हिंसक छड़प में हुई जबकि तीसरे व्यक्ति ने भीड़ पर पुलिस की ओर से की गई फ़ायरिंग
में दम तोड़ दिया.

हिंसा प्रभावित इलाक़े में र्क्फ़्यू लगा दिया गया है.मैसूर में बड़ी संख्या में मुसलमान रहते हैं और वहाँ सांप्रदायिक झगड़ों
का इतिहास रहा है.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी वीएस डीसूज़ा ने बीबीसी से कहा, “कुछ शरारती लोगों ने एक सूअर काटकर मस्जिद में फेंक दिया. इसका बड़ी
संख्या में लोगों ने विरोध किया.”

संवाददाताओं का कहना है कि दंगाइयों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने गोली चलाई.

पुलिस के मुताबिक़ इस मामले में कुछ लोगों को गिरफ़्तार भी किया गया है.

 कुछ शरारती लोगों ने एक सुअर का शव मस्जिद में फेंक दिया. इसका बड़ी संख्या में लोगों ने विरोध किया

हिंसा प्रभावित इलाक़े में र्क्फ़्यू लगा दिया गया है और इन इलाक़ों के स्कूल-कॉलेजों को चार जुलाई तक बंद रखने के आदेश दिए गए
हैं.

पिछले साल कट्टरपंथी हिंदू संगठन बजरंग दल ने राज्य के क़रीब 20 चर्चों में तोड़फोड़ की थी.

इस हमले की ज़िम्मेदारी लेने के बाद बंजरंग दल के नेता महेंद्र कुमार को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया था.

Tags:
author

Author: