फैसला भारतीय क्रिकेट के खिलाफ हुआ तो सुप्रीम कोर्ट जाएंगे: सीओए

फैसला भारतीय क्रिकेट के खिलाफ हुआ तो सुप्रीम कोर्ट जाएंगे: सीओएफैसला भारतीय क्रिकेट के खिलाफ हुआ तो सुप्रीम कोर्ट जाएंगे: सीओए

नई दिल्ली, प्रेट्र। क्रिकेट प्रशासकों की समिति (सीओए) ने राज्य इकाइयों को भेजे पत्र में चेताया है कि यदि सात मई को होने वाली बीसीसीआइ की विशेष आम बैठक (एसजीएम) में भारतीय क्रिकेट के हितों के प्रतिकूल फैसला लिया जाता है तो वे सुप्रीम कोर्ट की शरण लेंगे। यह पत्र इन अटकलों के बीच लिखा गया है कि बीसीसीआइ अगले महीने इंग्लैंड में होने वाली चैंपियंस ट्रॉफी से पीछे हटने पर विचार कर रहा है।

सीओए ने हालांकि साफ तौर पर कहा है कि ऐसे फैसले बिना सहमति के नहीं लिए जा सकते। सीओए के पत्र में सदस्यों से यह भी कहा गया है कि आइसीसी भले ही फिर से बात करने को तैयार है, लेकिन भारतीय बोर्ड की 57 करोड़ डॉलर (लगभग 36 अरब रुपये) की मांग उसे स्वीकार्य नहीं होगी।

सीओए ने 13 बिंदुओं वाले पत्र में कहा है कि भारतीय क्रिकेट की रक्षा करने वाले किसी भी फैसले का समिति समर्थन करेगी। उन्होंने यह भी कहा कि एसजीएम में अगर कोई भी फैसला ऐसा लिया गया जो भारतीय क्रिकेट के हितों के खिलाफ है तो सीओए सुप्रीम कोर्ट का मार्गदर्शन लेने में नहीं हिचकिचाएगी।

इसमें कहा गया, ‘हमें माननीय सुप्रीम कोर्ट का ध्यान इस ओर आकर्षित करना होगा। हम इस मसले पर उसके दखल की मांग करेंगे ताकि भारतीय क्रिकेट के हितों की रक्षा हो सके।’ एन श्रीनिवासन धड़े ने मंगलवार को टेलीकांफ्रेंस के जरिये सदस्य भागीदारी समझौता (एमपीए) के इस्तेमाल पर सहमति बनाने की कोशिश की जिसमें चैंपियंस ट्रॉफी का बहिष्कार शामिल है।

सीओए ने दसवें बिंदु में कहा, ‘इसकी संभावना बिल्कुल कम है कि आइसीसी और अन्य क्रिकेट बोर्ड उस वित्तीय मॉडल पर सहमत होंगे जो 2014 में लाया गया था।’ सीओए चाहता है कि बातचीत जारी रहनी चाहिए जिससे आइसीसी 29 करोड़ डॉलर ((लगभग 18.5 अरब रुपये) से 57 करोड़ डॉलर के बीच किसी रकम पर रजामंदी जता सकती है।

Tags:
author

Author: