खुद को ही देखकर क्यों हैरान हो गए कपिल देव, दिलचस्प है वजह

खुद को ही देखकर क्यों हैरान हो गए कपिल देव, दिलचस्प है वजहखुद को ही देखकर क्यों हैरान हो गए कपिल देव, दिलचस्प है वजह

नई दिल्ली, जेएनएन। 1983 में भारतीय क्रिकेट टीम को पहला विश्व कप दिलाने वाले कप्तान कपिल देव ने मैडम तुसाद वैक्स म्यूजियम के लिए अपने मोम के पुतले का उद्घाटन किया। कपिल का यह पुतला दिल्ली में इस साल के अंत में खुलने वाले मैडम तुसाद संग्रहालय की शोभा बढ़ाएगा।

इस अवसर पर कपिल ने कहा कि वह अपने एक्शन से भरपूर पुतले को देखकर अभिभूत हैं और इस अनुभव को बयां करने के लिए उनके पास शब्द नहीं हैं। कपिल ने कहा, ‘यह मेरे लिए बिल्कुल नया अनुभव है। मेरे पास इसे बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं। मैने सोचा था कि मैडम तुसाद में यह सब कैसे होगा लेकिन जो परिणाम निकलकर सामने आया है, वह हैरतअंगेज है’।

 मैडम तुसाद वैक्स म्यूजियम अब दिल्ली में भी खुलेगा। इस म्यूजियम में 50 के करीब हस्तियों के पुतले लगाए जाएंगे, जिनमें से 60 फीसदी भारतीय हस्तियों के होंगे। भारतीय हस्तियों में सचिन तेंदुलकर, शाहरुख खान और अमिताभ बच्चन प्रमुख हैं। इसके अलावा कई विदेशी हस्तियां भी इस म्यूजियम की शोभा बढ़ाएंगी।

मैडम तुसाद वैक्स म्यूजिकम का मालिकना हक रखने वाली मर्लिन इंटरटेनमेंट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड की भारतीय इकाई के प्रमुख अंशुल जैन ने कहा कि कपिल किसी परिचय के मोहताज नहीं। 1983 में भारत को विश्व कप दिलाने वाले कप्तान के तौर पर और भारत के सबसे अच्छे हरफनमौला खिलाड़ी के तौर पर वह दुनिया भर में मशहूर हैं और उन्हें उम्मीद है कि मैडम तुसाद में आम लोग उनकी मौजूदगी का भरपूर लुत्फ लेंगे और उन्हें करीब से जानने का मौका पाएंगे।

आइपीएल की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

मै़डम तुसाद दिल्ली में भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों के अलावा अर्जेटीना के लिए खेलने वाले लियोनेल मेसी, इंग्लैंड के फुटबाल खिलाड़ी डेविड बेकहम भी खेल दीर्घा की शोभा बढ़ाएंगे। कपिल ने मैडम तुसाद वैक्स म्यूजियम को भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं और कहा कि वह इस वैक्स म्यूजियम के खुलने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।

खेल जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

इस मोम के पुतले लिए कपिल का करीब 200 अलग-अलग कोण से नाप लिया गया। कपिल से इस अनुभव के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘पहले तो समझ नहीं आया कि ये लोग ऐसा करेंगे कैसे और जब नाप लेने का काम शुरू हुआ तो इन्होंने मेरे कपड़े तक उतरवा दिए। अब मेरा एक्शन सबके सामने है और इसे देखकर मैं भी हैरान हूं। इसकी खुबसूरती बेमिसाल है और मैं इस प्रयास के लिए मैडम तुसाद से जुड़े सभी कारीगरों को बधाई देता हूं’।

Tags:
author

Author: