क्या कल ये दोनों पाकिस्तान को भेजेंगे संदेश कि- ‘हम आ रहे हैं’

क्या कल ये दोनों पाकिस्तान को भेजेंगे संदेश कि- 'हम आ रहे हैं'क्या कल ये दोनों पाकिस्तान को भेजेंगे संदेश कि- ‘हम आ रहे हैं’

[स्पेशल डेस्क], नई दिल्ली। आइपीएल-10 में अब बस एक मुकाबला बचा है और वो है टूर्नामेंट का महामुकाबला यानी फाइनल। कल (रविवार) होने वाले इस मुकाबले में पुणे और मुंबई की टीमें आमने-सामने होंगी। इन दोनों टीमों में कौन जीतेगा इस पर भारतीय फैंस की राय अलग-अलग जरूर होंगी लेकिन दो खिलाड़ी ऐसे हैं जिन पर हर भारतीय फैंस की एक ही राय और दुआ एक ही जैसी होगी। क्या है इसकी वजह, आइए जानते हैं।

– अब तक फ्लॉप, क्या होगा अब

हम जिन दोनों खिलाड़ियों की बात कर रहे हैं वो भारतीय क्रिकेट टीम की शान हैं और कल चैंपियंस ट्रॉफी से पहले उनके पास आखिरी मौका होगा अपना दम दिखाने का।

ये हैं पुणे व टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी और मुंबई इंडियंस के कप्तान व भारतीय ओपनर रोहित शर्मा। दोनों ही खिलाड़ी इस आइपीएल सीजन में इक्का-दुक्का मैचों में ही दम दिखा सके या इनके हुनर व अनुभव को देखते हुए ये भी कह सकते हैं कि ये फ्लॉप रहे।

– क्या कहते हैं आंकड़े

एक तरफ हैं रोहित शर्मा जो अब तक 16 मैचों में 309 रन ही बना पाए हैं जो आइपीएल इतिहास के सभी सीजन मिलाकर उनका अब तक का सबसे छोटा आंकड़ा है। वहीं दूसरी तरफ पुणे की टीम में हैं महेंद्र सिंह धौनी जो अब तक 15 मैचों में 280 रन ही बना पाए हैं। हालांकि पिछले मुकाबले में उन्होंने नाबाद 40 रनों की धुआंधार पारी खेलकर अपनी वापसी के संकेत दिए थे लेकिन फिर भी उनके आंकड़ों में कुछ ज्यादा सुधार नहीं हुआ।

– पाकिस्तान के खिलाफ उतरने से पहले दम दिखाओ

सभी वाकिफ हैं कि धौनी और रोहित बड़े मैचों में अपना दम दिखाने से नहीं चूकते। वनडे क्रिकेट में दो दोहरा शतक जड़ने वाले रोहित हों या फिर दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फिनिशर माने जाने वाले धौनी। दोनों ही धुरंधर कभी भी मैच का रुख पलटने का दम रखते हैं, ऐसे में सबकी उम्मीद यही होगी कि कल के मैच में ये दोनों रंग में आ जाएं ताकि पाकिस्तान के खिलाफ जब वे चैंपियंस ट्रॉफी के पहले मैच में उतरें तो उनका मनोबल बढ़ा हुआ हो और पाकिस्तान को संदेश भी मिल जाए कि टीम के दो और धुरंधर धूम मचाने को तैयार हैं। भारत चैंपियंस ट्रॉफी में अपना पहला मैच पाकिस्तान के खिलाफ 4 जून को बर्मिंघम (इंग्लैंड) में खेलेगा। 

————

– शिवम् अवस्थी

यह भी पढ़ेंः एक कंगारू इनको समझ गया और भारत के लोग ही करते रह गए आलोचना 

Tags:
author

Author: