आखिर कोहली ने छोड़ी अपनी जिद, इस खिलाड़ी के वनडे करियर की हुई शुरुआत

आखिर कोहली ने छोड़ी अपनी जिद, इस खिलाड़ी के वनडे करियर की हुई शुरुआतआखिर कोहली ने छोड़ी अपनी जिद, इस खिलाड़ी के वनडे करियर की हुई शुरुआत

नई दिल्ली, [स्पेशल डेस्क]। अनिल कुंबले ने जब कोच के पद से अचानक इस्तीफा दिया तो तमाम तरह के कयास लगाए गए। कप्तान कोहली के साथ मतभेद तो कुंबले के त्यागपत्र में साफ हो गए थे लेकिन ये मतभेद कब और किस वजह से शुरू हुए इसको लेकर तमाम बातें सामने आईं। इन्हीं में से एक वजह थी, एक खिलाड़ी का नाम, जिसको आखिर शुक्रवार को वो मौका मिल ही गया जिसके लिए वो तरस रहा था। हालांकि बारिश की वजह से इस मैच को रद कर दिया गया और उन्हें खेलने का मौका नहीं मिल पाया। 

– कोहली ने छोड़ी जिद, मिल गया आगाज का मौका

हम यहां बात कर रहे हैं कानपुर (उत्तर प्रदेश) से आने वाले 22 वर्षीय चाइनामेन गेंदबाज कुलदीप यादव की। कुलदीप यादव को वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे सीरीज के पहले मुकाबले में आखिरकार भारतीय टीम की नीली जर्सी पहनने का मौका मिल ही गया। कुलदीप ने इसी साल मार्च में धर्मशाला में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में अपने अंतरराष्ट्रीय करियर का आगाज किया था। उस मैच की पहली पारी में उन्होंने सबसे ज्यादा 4 विकेट लेकर अपना प्रभाव छोड़ा था।

– कुंबले-विराट झगड़े की शुरुआत

कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक पूर्व कोच अनिल कुंबले और कप्तान विराट कोहली के बीच अनबन व झगड़े की शुरुआत इसी साल मार्च में ऑस्ट्रेलिया के भारत दौरे पर हुई थी। सीरीज के तीसरे टेस्ट में कुंबले चाहते थे कि कुलदीप यादव को टीम में शामिल किया जाए लेकिन कोहली ने इससे साफ इनकार कर दिया। टीम इंडिया इस मैच में कुलदीप के बिना ही उतरी और ये मैच ड्रॉ रहा। इसके बाद अंतिम टेस्ट (धर्मशाला) में कुंबले अपनी जिद पर अड़े रहे और विराट को इस बार कुलदीप को लेकर ही मैदान पर उतरना पड़ा। भारत ने ये टेस्ट मैच जीता और इस मैच में कुलदीप ने चार विकेट लेकर अपने करियर का शानदार आगाज किया। ये कुंबले की पारखी नजर की जीत थी लेकिन शायद विराट इसको हार मानकर दिल पर लगाकर बैठ गए थे। अंदर ही अंदर दोनों के बीच मामला गहरा होता गया और चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल में हार के बाद जब टीम इंडिया वेस्टइंडीज रवाना हुई तो कोहली ने कोच पद से इस्तीफा दे दिया।

– द्रविड़ ने भी उठाए थे सवाल

वैसे कुलदीप को न चुनने को लेकर सिर्फ कुंबले ही नाराज नहीं दिखे बल्कि पूर्व दिग्गज भारतीय बल्लेबाज व कप्तान राहुल द्रविड़ ने भी चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल में भारत की हार के बाद अपनी राय रखी। द्रविड़ ने कहा कि कुलदीप को न चुनना एक गलत फैसला था क्योंकि पूरे टूर्नामेंट में कोई भी ऐसी टीम नहीं थी जिसने अंगुलियों की मदद से गेंद घुमाने वाले दो स्पिनरों को एक साथ मैदान पर उतारा हो। सिर्फ भारतीय टीम में अश्विन और जडेजा के रूप में ये देखने को मिला। दोनों ने टूर्नामेंट में उम्मीद मुताबिक प्रदर्शन नहीं किया।

द्रविड़ ने साफ शब्दों में कहा कि इंग्लैंड की सपाट पिचों पर अंगुलियों से गेंद घुमाने वाले स्पिनरों से कलाई से गेंदबाजी करने वाले व रहस्यमयी गेंदबाज ज्यादा बेहतर साबित होते। कुलदीप को जरिया बनाते हुए द्रवि़ड़ का ये निशाना सिर्फ चयन समिति की ओर नहीं था बल्कि कप्तान विराट की ओर भी था जो कप्तान के रूप में चयन के दौरान अहम भूमिका निभाते हैं।

By
Shivam Awasthi 

Tags:
author

Author: