अनजान से भारतीय खिलाड़ी ने इस अंतरराष्ट्रीय गेंदबाज़ के छुड़ाए पसीने

अनजान से भारतीय खिलाड़ी ने इस अंतरराष्ट्रीय गेंदबाज़ के छुड़ाए पसीनेअनजान से भारतीय खिलाड़ी ने इस अंतरराष्ट्रीय गेंदबाज़ के छुड़ाए पसीने

नई दिल्ली, प्रदीप सहगल। इस आइपीएल में भारतीय युवा बल्लेबाज़ अपने बल्ले का दम दिखा रहे हैं। उनकी काबिलियत के सामने बड़े-बड़े गेंदबाज़ धाराशाई होते दिखाई दे रहे हैं, ऐसा ही कुछ हुआ आइपीएल के 41वें मुकाबले में। पुणे सुपर जाएंट की टीम के सामने कोलकाता नाइट राइडर्स की मज़बूत चुनौती थी। गंभीर के नाइट राइडर्स ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 155 रन बनाए। मैदान ईडन गार्डंस का था, तो सभी को उम्मीद थी कि गंभीर की टीम इस लक्ष्य का बचाव कर लेगी, लेगी राहुल त्रिपाठी तो कुछ और ही सोचकर आए थे। राहुल ने 52 गेंदों पर 93 रन की पारी खेलकर पुणे को इस अहम मुकाबले में जीत की दहलीज़ तक पहुंचा दिया।

नाइल को किया नाकाम

अपनी इस पारी के दौरान राहुल त्रिपाठी ने एक अंतरराष्ट्रीय गेंदबाज़ के पसीने छुड़ा दिए थे। पुणे की पारी का तीसरा ओवर गंभीर ने ऑस्ट्रेलियाई टीम की तरफ से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने वाले कूल्टर नाइल को दिया। राहुल त्रिपाठी स्ट्राइक पर थे और उन्होंने इस ओवर की सभी गेंदों का सामना किया। कूल्टर नाइल ने अपने इस ओवर में 19 रन दिए, लेकिन राहुल ने अपने बल्ले से 18 रन बनाकर इस गेंदबाज़ के पसीने छुड़ा दिए। इस ओवर की आखिरी तीन गेंदों को राहुल ने बाउंड्री के पार पहुंचाया।

इस ओवर में त्रिपाठी ने ऐसे बटोरे रन

2.1- कूल्टर नाइल के सामने त्रिपाठी- 0 रन

2.2- कूल्टर नाइल के सामने त्रिपाठी- 4 रन

2.3- कूल्टर नाइल के सामने त्रिपाठी- 1 रन (वाइड गेंद)

2.3- कूल्टर नाइल के सामने त्रिपाठी- 0 रन

2.4- कूल्टर नाइल के सामने त्रिपाठी- 6 रन

2.5- कूल्टर नाइल के सामने त्रिपाठी- 4 रन

2.6- कूल्टर नाइल के सामने त्रिपाठी- 4 रन

इस आइपीएल में कूल्टर नाइल गंभीर के सेना के सबसे असरदार गेंदबाज़ रहे हैं और त्रिपाठी ने उन्ही के हौसले पस्त कर कोलकाता पर मनोवैज्ञानिक दबाव बना दिया था। 93 रन की इस पारी में राहुल भले ही शतक से चूक गए हो, लेकिन उन्होंने अपनी इस तूफानी इनिंग से सभी का दिल जीत लिया। इस पारी में राहुल के बल्ले से 9 चौके और 7 शानदार छक्के भी निकले।

आइपीएल की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Tags:
author

Author: