अगर आप दिल्ली डेयरडेविल्स के फैन हैं तो आपके लिए ये खबर अच्छी है

अगर आप दिल्ली डेयरडेविल्स के फैन हैं तो आपके लिए ये खबर अच्छी हैअगर आप दिल्ली डेयरडेविल्स के फैन हैं तो आपके लिए ये खबर अच्छी है

नई दिल्ली। दिल्ली डेयरडेविल्स क्रिकेट टीम के फैंस के लिए अच्छी खबर है। कल रात डिफेंडिंग चैंपियन हैदराबाद को हराने के बाद दिल्ली की टीम ने इस आइपीएल में आगे बढ़ने (प्लेऑफ में जगह) की उम्मीदों को बरकरार रखा है। हालांकि उनके सामने चुनौती बेहद कड़ी होगी।  

– 16 दिन बाद जीते

दिल्ली की टीम ने घरेलू मैदान फिरोजशाह कोटला मैदान पर हैदराबाद को हरा तो दिया लेकिन उन्हें ये नहीं भूलना होगा कि ये जीत उन्हें 16 दिन और 5 मैचों के बाद जाकर मिली है। कहीं न कहीं उनकी टीम की कमजोरियां बार-बार निकलकर सामने आ रही हैं और इससे उन्हें बचना होगा और आगे जाने के लिए मंगलवार रात जैसा प्रदर्शन अब बार-बार दोहराना होगा।

– उतार-चढ़ाव भरा सफर, घर में दिखाना होगा दम

दिल्ली को इस बार अपने दूसरे और घरेलू मैदान फिरोजशाह कोटला के पहले मैच में कोलकाता नाइटराइडर्स से पराजय का सामना करना पड़ा था। हालांकि, इसके बाद उसने यहीं पर पंजाब को 51 रनों से हराया। जहीर की अगुआई वाली टीम ने इसके बाद राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स को उसके घर में हराया, लेकिन इसके बाद से उसका बैड लक शुरू हुआ और वह लगातार पांच मैच हारी। उसके आइपीएल से बाहर होने की संभावना भी बढ़ गई, उसने हैदराबाद को छह विकेट से हराकर प्ले ऑफ में जगह बनाने की उम्मीद को बरकरार रखा है। अब इसी मैदान पर 4 मई को उसे गुजरात लायंस का सामना करना है।

– क्या कहते हैं आंकड़े

आंकड़ों की बात करें तो हैदराबाद को मंगलवार रात को हराने के बाद अब दिल्ली की टीम को अंक तालिका में आखिरी स्थान से मुक्ति मिल गई है। अब वो छलांग लगाकर छठे पायदान पर जा पहुंची है। फिलहाल 9 मैचों में उसके 3 जीत और 6 हार के साथ 6 अंक हैं। अगर उसे प्लेऑफ की संभावनाओं को अंत तक बरकरार रखना है तो अपने बाकी बचे सभी पांच मैच जीतने होंगे जिससे उसके 16 अंक हो सकेंगे। उनके लिए अच्छी बात ये है कि इसमें चार मैच उसे अपने ही मैदान पर खेलने हैं। चौथे नंबर पर मौजूद पुणे (12 अंक) भी अपने सारे मैच जीत गई तो उसके भी 16 अंक होंगे, बस इनके बीच में पंजाब की टीम 8 अंक लेकर पांचवें नंबर पर है जो अपने बाकी सभी पांच मैच जीतने पर 18 अंक बना सकती है जो पुणे और दिल्ली, दोनों के लिए अच्छा नहीं रहेगा। वैसे आइपीएल में आंकड़ों की गणित पहले भी कई बार गोते लगाती देखी गई है और इस बार भी मामला कड़ा रहेगा, कौन सी टीम अचानक तालिका में ऊपर जाती है और कौन सी अचानक फर्श पर आती है ये लीग मैच खत्म होने के बाद ही पूरी तरह से पता चल सकेगा।

Tags:
author

Author: