हॉर्न vs पैक्वे: स्कूल टीचर ने दुनिया के सबसे बड़े मुक्केबाज को कर दिया चित्त

हॉर्न vs पैक्वे: स्कूल टीचर ने दुनिया के सबसे बड़े मुक्केबाज को कर दिया चित्तहॉर्न vs पैक्वे: स्कूल टीचर ने दुनिया के सबसे बड़े मुक्केबाज को कर दिया चित्त

सिडनी, रॉयटर्स। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व स्कूल टीचर जैफ हॉर्न ने रविवार को 50,000 दर्शकों की मौजूदगी में विश्व चैंपियन फिलीपींस के मैनी पैक्वे को चौंकाते हुए वर्ल्ड बॉक्सिंग ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूबीओ) वेल्टरवेट का खिताब अपने नाम किया। उन्होंने यह मुकाबला सर्वसम्मति (यूनेनिमस पॉइंट्स डिसीजन) के आधार पर जीता।

29 वर्षीय हॉर्न को तीन जजों ने 12 राउंड केबाद 117-111, 115-113, 115-113 के स्कोर से विजेता घोषित किया। 38 वर्षीय पैक्वे आठ वर्गों में वर्ल्ड चैंपियन हैं और उन्हें उनकी पीढ़ी के सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाजों में शुमार किया जाता है। 

पैक्वे के सामने अच्छे से अच्छा मुक्केबाज भी टिक नहीं पाता लेकिन इस मुकाबले को लेकर भी हर कोई यही मान रहा था कि इस मुकाबले में पैक्वे हॉर्न को धूल चटा देंगे, लेकिन 2012 ओलंपिक में ऑस्ट्रेलिया का प्रतिनिधित्व कर चुके हॉर्न ने हर किसी को गलत साबित कर दिया। यह हॉर्न के करियर की सबसे बड़ी जीत है। 

इस जबरदस्त मुकाबले में दोनों ही मुक्केबाजों के सिर से खून निकला हुआ था, लेकिन इस पूर्व टीचर के पंचों के आगे पैक्वे टिक नहीं सके। इसके साथ ही पैक्वे और बॉक्सिंग सुपरस्टार स्टार फ्लॉयड मेवेदर के बीच एक और मुकाबले की उम्मीद खत्म हो गई। पैक्वे को मेवेदर के साथ एक बार फिर से आमना-सामना करने के लिए हर हाल में हॉर्न को शिकस्त देनी थी, लेकिन फिलीपींस का यह मुक्केबाज ऐसा नहीं कर सका। अब हॉर्न का सामना अमेरिका के फ्लॉयड मेवेदर से होगा। 

मैनी पैक्वे ने हार के बाद कहा, ‘बहुत मुश्किल। मैं इतने मुश्किल मुकाबले की उम्मीद नहीं कर रहा था। यह ठीक है। यह खेल का हिस्सा है। यह जजों का फैसला है और मैं उनका सम्मान करता हूं।’

हॉर्न बनाम पैक्वे, एक नजर

01 मुकाबला भी नहीं हारे हैं जैफ हॉर्न। उन्होंने अपने करियर में 18 फाइट में 11 नॉकआउट सहित 17 जीती है, जबकि एक ड्रॉ रही है

59 फाइट जीती हैं पैक्वे ने अपने करियर में। सात में उन्हें हार मिली और दो ड्रॉ रहीं। उन्होंने कुल 67 फाइट में 38 नॉकआउट से जीती हैं।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

By
Bharat Singh 

Tags:
author

Author: