सोना नहीं, पसीने से बनता है गोल्ड मेडल: सुशील

सोना नहीं, पसीने से बनता है गोल्ड मेडल: सुशीलसोना नहीं, पसीने से बनता है गोल्ड मेडल: सुशील

जागरण संवाददाता, आगरा। अक्सर रेसलिंग किट में दिखने वाले सुशील कुमार को अलग अंदाज में दिखे। सफेद टीशर्ट, नीली जींस और पोरेट कलर के जूते पहने किसी मॉडल से कम नहीं लग रहे थे। चेहरे में मुस्कान और विनम्र स्वभाव ने हर किसी को उनका दीवाना बना दिया। कोई उनसे फिटनेस का राज पूछ रहा था तो कोई सफलता का। रेसलर सुशील ने सबके जवाब दिए।

सेंट एंड्रूज स्कूल में वल्र्ड स्कूल काम्बेट गेम्स का शुभारंभ करने आए ओलंपियन सुशील कुमार खिलाडिय़ों के सुशील भइया बन गए। ओपनिंग सेरेमनी के बाद हर स्कूल के बच्चे और खिलाड़ी उनसे मिलने के लिए बेचैन थे। हर कोई उनके साथ सेल्फी लेना चाहता था। फोटो सेशन के दौरान खिलाडिय़ों ने उनसे फिटनेस के बारे में पूछा। उन्होंने बताया कि फिट रहने के लिए वो कड़ी मेहनत करते हैं। अपने कोच की बात मानते हैं और डायट पर ध्यान देते हैं। 

वर्ल्ड कॉम्बेट स्कूल गेम्स में प्रतिभाग करने वाली भारतीय टीम के खिलाडिय़ों की सुशील हौसला अफजाई करते हुए कहा कि देश में पहली बार कॉम्बेट स्कूल गेम्स का आयोजन हो रहा है। इसमें चाइना, रसिया, ब्राजील जैसी टीमें आई हैं। इनके खिलाडिय़ों के साथ कंपटीशन से हमारी प्रतिभा निखरेगी। उन्होंने खिलाडिय़ों को जीत का मंत्र देते हुए कहा कि गोल्ड मेडल सोने से नहीं बनता है बल्कि पसीने और कड़ी मेहनत से बनता है। सभी खिलाडिय़ों को अपना लक्ष्य तैयार कर कड़ी मेहनत करनी चाहिए। हार से उदास नहीं होना चाहिए। हार-जीत तो लगी रहती है।  

 

स्कूल से निकलेंगे ओलंपियन

उन्होंने कहा कि चाइना में ओलंपिक पदक विजेता स्कूलों की टीम से निकलते हैं। अब भारत भी उसी रास्ते पर है। कॉम्बेट स्कूल गेम्स जैसे आयोजन से हमारे यहां से भी स्कूलों से ओलंपियन निकलेंगे। 70 फीसद खिलाड़ी स्कूलों से ही आते हैं। 

 

सुशील की डायट

सुशील कुमार के नाम के आगे पहलवान जुड़ते ही मन में आता होगा कि उनकी डाइट बहुत सारी होगी, लेकिन ऐसा नहीं है। रेसलिंग में वेट कैटैगिरी होने के कारण अब वजन मेंटेन करना बहुत बड़ी चुनौती है। सुशील कुमार शाकाहारी हैं। वो प्रेक्टिस के दौरान सुबह 100 से 150 ग्राम मक्खन लेते हैं। पूरे दिन में 200 ग्राम बादाम खाते हैं। दो से ढाई किलो दूध पीते हैं। खाने में रोटी, हरी सब्जी और सलाद लेते हैं। 

 

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

By
Sanjay Savern 

Tags:
author

Author: