श्रीलंका जीत से 218 रन दूर, जिम्बाब्वे ने रखा 388 रनों का लक्ष्य

श्रीलंका जीत से 218 रन दूर, जिम्बाब्वे ने रखा 388 रनों का लक्ष्य

कोलंबो। मध्यक्रम के बल्लेबाज सिकंदर रजा के करियर के पहले शतक (127, 205 गेंद) की मदद से जिम्बाब्वे ने एकमात्र टेस्ट मैच में श्रीलंका के सामने जीत के लिए 388 रनों का लक्ष्य रखा है। जिसका पीछा करते हुए मेजबान टीम ने चौथे दिन अपनी दूसरी पारी में 3 विकेट खोकर 170 रन बना लिए हैं। अंतिम दिन उसे जीत के लिए 281 रन और बनाने होंगे जबकि उसके 7 विकेट शेष हैं।

आर. प्रेमदासा स्टेडियम में जिम्बाब्वे के पहली पारी में 356 रनों के जवाब में श्रीलंका की पहली पारी 346 रनों पर सिमट गई। 10 रनों की बढ़त से उत्साहित ने जिम्बाब्वे ने दूसरी पारी में 377 रनों का स्कोर बनाया। लक्ष्य का पीछा कर रही श्रीलंकाई टीम ने कप्तान दिनेश चांदीमल (15), उपुल थरंगा (27) के विकेट सस्ते में गंवा दिए जबकि दिमुथ करणारत्ने 49 रनों की उपयोगी पारी खेलीं। खेल समाप्ति के समय चौथा अर्धशतक लगाने वालेे कुशल मेंडिस (60*) के साथ एंजेलो मैथ्यूज (17*) क्रीज पर मौजूद हैं। ग्रीम क्रेमर ने 2 विकेट लिए। 

इससे पहले जिम्बाब्वे ने अपनी दूसरी पारी 252/6 से आगे शुरू की। सिकंदर ने दिलरवान परेरा की गेंद पर 2 रन लेकर अपना शतक पूरा किया। करियर की सर्वश्रेष्ठ पारी खेलने वाले सिकंदर को रंगना हेरथ ने अपना पांचवां शिकार बनाया। हेरथ और मैल्कम वालेर (68) ने सातवें विकेट के लिए 144 रनों की साझेदारी की। यह जिम्बाब्वे की ओर से दूसरी सबसे बड़ी साझेदारी हैं। इस विकेट के लिए सबसे बड़ी साझेदारी 2001 में एडम ब्लिगनॉट और हीथ स्ट्रीक ने वेस्टइंडीज के खिलाफ हरारे में 154 रनों की थी। हेरथ ने 6 विकेट लिए और इस मैच में उन्होंने अपने विकेटों की संख्या 11 पर पहुंचा दी। उन्होंने अब तक 31वीं बार 5 या इससे ज्यादा विकेट लिए हैं। दिलरवान परेरा को 3 विकेट मिले। 

 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें


खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

By
Sanjay Savern 

Tags:
author

Author: