भारतीय टीम के कोच पर फैसला विराट कोहली से सलाह के बाद

भारतीय टीम के कोच पर फैसला विराट कोहली से सलाह के बाद

मुंबई, प्रेट्र। तीन सदस्यीय क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ने साक्षात्कार की प्रक्रिया पूरी होने के बावजूद नाटकीय घटनाक्रम के तहत भारत के अगले कोच की नियुक्ति को फिलहाल रोकने का फैसला किया। नियुक्ति को रोकने का फैसला साफ संकेत है कि रवि शास्त्री अब इस शीर्ष पद के लिए स्पष्ट तौर पर प्रबल दावेदार नहीं रहे, क्योंकि वीरेंद्र सहवाग निजी तौर पर साक्षात्कार के लिए पेश हुए जो दो घंटे चला। 

मालूम चला है कि पांच उम्मीदवार शास्त्री, सहवाग, लालचंद राजपूत, टॉम मूडी और रिचर्ड पाइबस साक्षात्कार के लिए पेश हुए, जबकि फिल सिमंस ने खुद को अनुपलब्ध रखा। सीएसी में पूर्व भारतीय कप्तानों सौरव गांगुली और सचिन तेंदुलकर के अलावा वीवीएस लक्ष्मण शामिल हैं। तेंदुलकर स्काइप के जरिये प्रक्रिया से जुड़े क्योंकि वह फिलहाल लंदन में हैं।

सीएसी की ओर से पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा कि हम किसी जल्दबाजी में नहीं हैं और कप्तान विराट कोहली को भी यह समझना होगा कि कोच किस तरह से काम करते हैं। हम कुछ लोगों से बात करके, जिसमें कप्तान कोहली भी शामिल हैं, फिर कोच पद का फैसला लेंगे। विराट जब वेस्टइंडीज से वापस आ जाएंगे तो हम उनसे विस्तृत चर्चा करेंगे। हम कुछ दिनों के बाद इस पर अंतिम फैसला लेंगे। गांगुली ने स्पष्ट किया कि वे अगले दो साल को देखते हुए ऐसा फैसला करेंगे जो भारतीय क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ हित में होगा। बीसीसीआइ की नीति को दोहराते हुए गांगुली ने कहा कि कोई भी नियुक्ति विश्व कप तक होगी। 

गांगुली ने कहा कि कोचों ने भारतीय क्रिकेट के लिए रोडमैपको लेकर जो प्रस्तुतिकरण दिया है वह उससे अलग नहीं है जो उन्होंने पिछले साल देखा था। हम समय आने पर फैसला करेंगे। हम जल्दबाजी में नहीं हैं। श्रीलंका का लंबा दौरा है। हम सुनिश्चित करना चाहते हैं कि सभी की समान राय हो। क्योंकि मुझे, सचिन, अमिताभ जी (चौधरी) या राहुल (जौहरी) को नहीं खेलना है। यह खिलाडिय़ों का मामला है, जो खेलेंगे और सपोर्ट स्टाफ उनकी मदद के लिए के लिए होगा। पूर्व भारतीय कप्तान गांगुली ने स्पष्ट किया कि फैसला करने की प्रक्रिया में कप्तान विराट कोहली की भूमिका महत्वपूर्ण बनी रहेगी। उन्होंने कहा, ‘हम ऐसा फैसला करेंगे जो टीम और लड़कों के आगे बढऩे के लिए सर्वश्रेष्ठ होगा क्योंकि उन्हें खेलना है।

मालूम हो कि चैंपियंस ट्रॉफी के बाद अनिल कुंबले ने टीम के मुख्य कोच पद से इस्तीफा दे दिया था। उनका कार्यकाल एक साल का था, लेकिन वेस्टइंडीज के दौरे को देखते हुए कार्यकाल को विस्तार दे दिया गया था। हालांकि कुंबले ने चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल के बाद कप्तान विराट कोहली से मनमुटाव की बात को मानते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

By
Sanjay Savern 

Tags:
author

Author: