पुलिस अधिकारियों से बोले नीतीश, बिहार की सबसे बुरी पहचान बना कानून का राज

नई दिल्ली: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जब भी मौका मिलता हैं तो बिहार पुलिस की आला अधिकारियों के साथ दो टूक शब्दों में बात करते हैं. मंगलवार को भी उन्होंने एक बैठक में पुलिस अधिकारियों को कहा कि बिहार की सबसे बुरी पहचान कानून का राज हैं इस पर समझौता मंजूर नहीं है.

CM नीतीश कुमार ने कहा, बिहार में किसी को सलाह देने पर हो सकता है चप्पल से प्रहार

उन्होंने बैठक में बिहार पुलिस के अधिकारियों को वो समय याद दिलाया जब उनके पास अंग्रेजों की जमाने की बंदूक और धक्का देने पर चलने वाली जीप होती थीं, लेकिन आज वैसी स्थिति नहीं हैं. नीतीश ने कहा कि पुलिस के जवानों से लेकर अधिकारियों को अब आधुनिक हथियार दिए जा रहे हैं. सभी सुविधाएं दी जा रही हैं इसलिए आपसे उपलब्धि की उम्मीद की जाती हैं. इसके बाद बिहार के सीएम ने पुलिस अधिकारियों को कहा कि आपको जो करना हैं कीजिए हमको जो करना हैं करेंगे.

जीएसटी के विरोध का औचित्य मुझे समझ में नहीं आता : नीतीश कुमार

नीतीश ने शराबबंदी को लेकर एक नई घोषणा की है। उन्होंने कहा कि राज्य में एक आईजी स्तर का अधिकारी केवल शराबबंदी के खिलाफ अभियान की मॉनिटरिंग करेंगे. जो पूरे राज्य में इसके अवैध कारोबार से लेकर इससे जुड़े मामलों पर ध्यान देगा. नीतीश ने माना कि अगर पुलिस वाले सख्ती बरतेंगे तो कोई धंधा नहीं करेगा. 

नीतीश ने शराबबंदी की चर्चा करते हुए कहा कि ऐसे अधिकारियों को बाहर करना होगा जो पद का दुरुपयोग कर कमाऊ प्रवृति के होते हैं. ऐसे लोग संस्था को बदनाम करते हैं. उन्होंने कहा कि शराबबंदी को और प्रभावी बनाने के लिए जो भी साधन और संसाधन की जरूरत होगी राज्य सरकार पुलिस को मुहैया कराएगी.

 

Tags:
author

Author: