पीठ दिखाना भी शौक है सलमान ख़ान का, ‘वांटेड’ से लेकर ‘टाइगर जिंदा है’ तक

पीठ दिखाना भी शौक है सलमान ख़ान का, ‘वांटेड’ से लेकर ‘टाइगर जिंदा है’ तक

मुंबई। बॉलीवुड के दबंग ख़ान सलमान अपनी हर फ़िल्म के पोस्टर में पीठ दिखातें हैं और यह सिलसिला कई सालों से चला आ रहा है। फ़िल्म ‘वांटेड’ से लेकर ‘टाइगर जिंदा है’ तक। जी हां, सबके अपने अपने शौक!

ज़रा अपने दिमाग पर ज़ोर दीजिए और याद कीजिए 2012 में रिलीज़ हुई सलमान ख़ान की फ़िल्म ‘एक था टाइगर’। इस स्पाई थ्रिलर फ़िल्म का जब पहला पोस्टर रिलीज़ हुआ था, तो पोस्टर पर सलमान की बैक ही दिखाई दी थी। दोनों हाथों में पिस्तौलें और गले में उड़ता हुआ स्कार्फ। नज़रें बैकग्राउंड में दिए गए शहर पर टिकी हुई। 

यह भी पढ़ें: बॉलीवुड स्टार्स का फ़िटनेस फंडा, Vegetarian भी और Vegan भी

जंग के मैदान में पीठ दिखाना भले ही कमज़ोरी और कायरता की निशानी मानी जाती हो, लेकिन फ़िल्मों के पोस्टर पर पीठ दिखाना बॉक्स ऑफ़िस विजय की तरफ पहला क़दम माना जाता है। दिलचस्प बात ये है कि पहले मोर्चे पर ही पीठ दिखाने में सबसे आगे सलमान ही हैं। हाल ही में रिलीज़ हुई सलमान की फ़िल्म ‘ट्यूबलाइट’ के फर्स्ट लुक में भी सलमान पीठ दिखाते नज़र आए थे 

और अब उनकी आने वाली फ़िल्म ‘टाइगर जिंदा है’ की एक तस्वीर सामने आई है और इसमें भी सलमान पीठ दिखा रहे हैं। यह तस्वीर डायरेक्टर अली अब्बास ज़फर ने अपने सोशल अकाउंट पर शेयर की है

इन फ़िल्मों के अलावा सलमान ख़ान ‘प्रेम रतन धन पायो’, ‘दबंग 2′ और ‘वांटेड’ के फ़र्स्ट लुक पोस्टर्स पर भी पीठ दिखा चुके हैं। वैसे ये एक तरह की प्रमोशनल स्ट्रेटजी भी है। हीरो के लुक को छिपाकर सस्पेंस बनाया जाता है, क्योंकि सस्पेंस से ही तो उत्सुकता बढ़ती है और उत्सुकता से बॉक्स ऑफ़िस नंबर।

इसीलिए आमिर ख़ान से लेकर टाइगर श्रॉफ़ तक बैक दिखाने से बाज़ नहीं आते। ‘धूम 3′ का फ़र्स्ट लुक याद है ना, टॉपलेस आमिर ख़ान सिर पर हैट पहने हुए अपनी वेल टोंड बैक दिखा रहे थे। शाह रुख़ ख़ान (फ़ैन), अक्षय कुमार (जॉली एलएलबी 2), अजय देवगन (शिवाय) भी अपनी फ़िल्मों के पोस्टर्स पर बैक फ्लांट करते रहे हैं।

टाइगर श्रॉफ़ की फ़िल्म ‘बाग़ी 2′ का फ़र्स्ट लुक भी कुछ इसी अंदाज़ से सामने आया है, टीज़र पोस्टर पर टाइगर की पीठ, जिसकी उभरी हुई मांस-पेशियां निस्संदेह किसी को भी आकर्षित कर सकती हैं। ‘बाग़ी 2′ के टीज़र पोस्टर पर भी टाइगर का अंदाज़े-बयां काफी हद तक ऐसा ही है, बस पोस्टर पर उनकी पोजिशन और बैकग्राउंड बदली हुई है।

By
मनोज वशिष्ठ 

Tags:
author

Author: