दिल्ली में प्रदूषण से दुनिया में बदनामी हो रही है: चीफ जस्टिस टी एस ठाकुर

नई दिल्ली: दिल्ली में प्रदूषण और ट्रकों पर ग्रीन टैक्स लगाए जाने के मामले पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस टी एस ठाकुर की टिप्पणी, “दिल्ली में प्रदूषण अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बदनामी की वजह बन रहा है.

 

हाल ही में इंटरनेशनल कोर्ट के न्यायाधीश के साथ बातचीत के दौरान मुझे इस विषय पर शर्मिंदगी महसूस हुई.” चीफ जस्टिस ने सुनवाई के दौरान बताया कि सुप्रीम कोर्ट के परिसर में प्रदूषण की जांच के लिए मशीन लगाई गयी थी. कोर्ट रूम में भी प्रदूषण के स्तर की जांच की गई.  अदालत में प्रदूषण कम करने को लेकर केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से सुझाव मांगे गए हैं.

 

कोर्ट ने आज एक बार फिर साफ़ किया कि दिल्ली में प्रवेश करने वाले ट्रकों से ग्रीन टैक्स वसूलने के नियम में रियायत नहीं दी जा सकती. एमसीडी के लिए टोल टैक्स वसूलने वाली कंपनी एसएमवाईआर से अदालत ने कहा कि अगर उसे नए टैक्स को वसूलना घाटे का सौदा लग रहा है तो वो नुकसान की भरपाई के लिए अलग से अर्जी दाखिल करे.

 

ग्रीन टैक्स की वसूली में आ रही दिक्कतों पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकार को बैठक कर हल निकालने को कहा. इस मामले में अदालत के सलाहकार हरीश साल्वे ने दिल्ली में डीजल कारों पर सख्ती का सुझाव दिया.

 

उन्होंने बताया कि उबेर और ओला जैसी टैक्सी सर्विस की वजह से भी दिल्ली में डीजल कार की संख्या बढ़ी है. सुप्रीम कोर्ट इन सुझावों समेत पूरे मामले पर 15 दिसंबर को सुनवाई करेगा.

Tags:
author

Author: