तीरंदाज़ी: भारतीय तीरंदाजी संघ में चार माह में होंगे दो बार चुनाव

तीरंदाज़ी: भारतीय तीरंदाजी संघ में चार माह में होंगे दो बार चुनावतीरंदाज़ी: भारतीय तीरंदाजी संघ में चार माह में होंगे दो बार चुनाव

नई दिल्ली, जेएनएन : दिल्ली हाई कोर्ट ने भारतीय तीरंदाजी संघ (एएआइ) में विश्वसनीयता और पारदर्शिता बनाए रखने के लिए अगले चार माह में दो बार चुनाव कराने का आदेश दिया है। पूरी प्रक्रिया के लिए पूर्व चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी को संघ का प्रशासक बनाया गया है।

न्यायमूर्ति एस रवींद्र भट्ट और न्यायमूर्ति नजमी वजीरी की खंडपीठ ने कहा कि पहले एक माह के दौरान उन राज्य संघों व सदस्यों को मौजूदा नियमों के अनुरूप ही एएआइ से जोड़ने का प्रयास किया जाए, जिन्हें अलग कर दिया गया था। इसके लिए सभी राज्य संघों को दो सप्ताह का नोटिस दिया जाए। एक माह बाद चुनाव कराने के लिए निर्वाचन मंडल बनाया जाए और अगले छह सप्ताह के भीतर चुनाव कराए जाएं। इसके बाद चुना हुआ नया संघ नेशनल स्पोर्ट्स कोड के अनुरूप तीरंदाजी संघ के संविधान में संशोधन करे।

संशोधित संविधान में चुने हुए सदस्यों की उम्र, कार्यकाल और खिलाड़ियों के प्रतिनिधित्व का कड़ाई से पालन किया जाए, जिसके बाद नए संविधान के अनुरूप फिर चुनाव कराए जाएं। यह सारी कवायद चार माह के भीतर पूरी हो जानी चाहिए।1हाई कोर्ट ने एएआइ को यह निर्देश दिए कि वह कुरैशी को अपने मुख्यालय में उपयुक्त जगह, कर्मचारी व अन्य सुविधाएं मुहैया कराए, जिसका खर्च एएआइ ही उठाएगी। जब तक नेशनल स्पोर्ट्स कोड के अनुरूप नए संविधान बनने के बाद चुनाव नहीं हो जाते एएआइ कोई भी नया आर्थिक अनुबंध नहीं करेगा। रोजमर्रा के खर्चे भी प्रशासनिक प्रमुख की इजाजत के बाद ही लिए जाएंगे।

याचिकाकर्ता वकील राहुल मेहरा और एएआइ को यह निर्देश दिए गए कि वह कुरैशी के पास जाकर चुनाव कराने के लिए प्रशानिक जिम्मेदारी उठाने की इजाजत मांगे। हाई कोर्ट प्रशासनिक प्रमुख की वेतन अदायगी के संबंध में बाद में निर्णय लेगा। इस मामले पर खेल मंत्रलय का कहना था कि वह दिसंबर 2012 में पहले ही एएआइ की मान्यता रद कर चुका है। उसके कामकाज से सरकार का कोई लेनादेना नहीं है। अंतरराष्ट्रीय तीरंदाजी संघ केवल एएआइ के माध्यम से ही खिलाड़ियों को खेलने की इजाजत देता है, इसलिए उन्हें मजबूरी में समय-समय एएआइ से बातचीत करनी पड़ती है।’

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

By
Pradeep Sehgal 

Tags:
author

Author: