जो कोहली को नहीं ‘पसंद’ वही हुआ? वेस्टइंडीज दौरे तक बने रहेंगे कुंबले

जो कोहली को नहीं 'पसंद' वही हुआ? वेस्टइंडीज दौरे तक बने रहेंगे कुंबलेजो कोहली को नहीं ‘पसंद’ वही हुआ? वेस्टइंडीज दौरे तक बने रहेंगे कुंबले

नई दिल्ली, पीटीआइ। भारतीय क्रिकेट टीम में चल रहे कथित विवाद के बीच सोमवार को यह साफ हो गया कि वेस्टइंडीज दौरे तक अनिल कुंबले टीम इंडिया के कोच बने रहेंगे। बीसीसीआइ की प्रशासकों की समिति (सीओए) के प्रमुख विनोद राय ने कहा कि कुंबले अगर स्वीकार करते हैं तो वह वेस्टइंडीज दौरे के लिए भी भारतीय टीम के कोच बने रहेंगे। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि अगले मुख्य कोच का फैसला क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) करेगी। 

सीओए की बैठक के बाद राय ने कहा, ‘कोच चुनने का काम सीएसी का है, जिसने पिछले साल कुंबले को एक साल के लिए कोच चुना था। अब प्रक्रिया का पालन किया जा रहा है, लेकिन प्रक्रिया में देरी हुई है और अगर कुंबले स्वीकार करते हैं तो वह वेस्टइंडीज दौरे के लिए भी कोच रहेंगे। सीएसी भविष्य पर फैसला करने के लिए लंदन में बैठक कर रही है।’ 

भारत पांच वनडे मैचों की सीरीज खेलने के लिए वेस्टइंडीज का दौरा करेगा। सीरीज का पहला मैच 23 जून को खेला जाएगा। सीरीज का एकमात्र टी-20 मैच नौ जुलाई को खेला जाएगा। यह पूछे जाने पर कि क्या कोच नियुक्ति की प्रक्रिया को बेहतर तरीके से निबटाया जा सकता था, राय ने कहा कि कप्तान विराट कोहली और कुंबले के बीच मतभेदों का दावा करने वाली खबरों में इस मामले को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया था। 

उन्होंने कहा, ‘सच्चाई यह है कि यह एक साल का अनुबंध था और इसलिए प्रक्रिया शुरू की गयी। मेरी समझ में नहीं आ रहा है कि इसे विवाद क्यों बनाया गया। मैंने कोहली और कुंबले से बात की और जो कुछ बातें कही जा रही थीं, उनमें से किसी ने भी उसकी पुष्टि नहीं की।’

ऐसा भी पता चला है कि सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण की हाई प्रोफाइल सीएसी भी अपने लंबे समय के पूर्व साथी को बरकरार रखने के पक्ष में हैं। सीएसी ने 26 जून को होने वाली बीसीसीआइ एसजीएम से पहले कुछ समय मांगा है। राय ने कहा, ‘हमने यह मामला सीएसी पर छोड़ दिया है। वे दिग्गज हैं, वे जानते हैं कि भारतीय क्रिकेट के लिए क्या सर्वश्रेष्ठ है।’

रामचंद्र गुहा ने सीओए से अपने त्यागपत्र में बीसीसीआइ के कामकाज पर सवाल उठाए थे। उन्होंने राहुल द्रविड़ के भारत (ए) के कोच और दिल्ली डेयरडेविल्स के मेंटर के रूप में काम करने को लेकर हितों के टकराव का मसला भी उठाया था। बीसीसीआइ इस मामले में जल्द ही नैतिक अधिकारी नियुक्त करेगा। राय ने कहा, ‘हितों के टकराव से जुड़े मसले बीसीसीआइ द्वारा नियुक्त नैतिक अधिकारी को भेजे जाएंगे। हितों के टकराव को लेकर कई शिकायतें मिली हैं।’

बीसीसीआइ एसजीएम में कोच पर चर्चा नहीं

बीसीसीआइ 26 जून को अपनी विशेष आम बैठक में भारत के अगले कोच के मुद्दे पर चर्चा नहीं करेगा, क्योंकि इसमें लोढ़ा समिति की सिफारिशों की लागू करने के मामले पर ही विचार विमर्श किया जाएगा। बीसीसीआइ और इसकी मान्यता प्राप्त राज्य इकाइयों में सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त समिति की सिफारिशों को लागू करने के अलावा इस बैठक में दुबई में 29 मई को पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के साथ हुई बैठक की रिपोर्ट पर भी चर्चा होगी। 

सभी राज्य संघों को भेजे गए पत्र में बीसीसीआइ के कार्यकारी अध्यक्ष सीके खन्ना ने कहा कि मुंबई में होने वाली बैठक में पीसीबी के साथ हुई बैठक का नतीजा भी सात सूत्री एजेंडे में शामिल है। बीसीसीआइ के कार्यकारी सचिव अमिताभ चौधरी ने पिछले महीने दुबई में पीसीबी चेयरमैन शहरयार खान से मुलाकात की थी। एसजीएम में आइसीसी बैठक, प्रशासकों की समिति (सीओए) द्वारा जनवरी के बाद से लिए गए फैसलों, घर और बाहर खेली जाने वाली द्विपक्षीय सीरीज आदि को लेकर चर्चा होगी।

क्रिकेट की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

By
Bharat Singh 

Tags:
author

Author: