जर्मनी में भीख मांगने के बयान को लेकर मुश्किल में फंसी कंचनमाला, पीसीआइ ने घेरा

जर्मनी में भीख मांगने के बयान को लेकर मुश्किल में फंसी कंचनमाला, पीसीआइ ने घेरा

नई दिल्ली, जेएनएन। पैरा तैराक कंचनमाला पांडे के मामले ने मंगलवार को नया मोड़ ले लिया, क्योंकि भारतीय पैरालंपिक समिति (पीसीआइ) की जांच रिपोर्ट में उन्हें झूठा बयान देने का दोषी ठहराया गया है। कंचनमाला ने कहा था कि जर्मनी में हुई पैरा तैराकी चैंपियनशिप में धन की कमी होने के कारण उन्हें भीख मांगने को मजबूर होना पड़ा था। 

पैरा तैराकी के अध्यक्ष वीके डबास वाली एक सदस्यीय जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि मुख्य कोच कंवलजीत सिंह, चैंपियनशिप में भाग लेने गए कंचनमाला के साथी तैराकों शम्स आलम शेख, सुयश नारायण जाधव और किरण से बात की गई, लेकिन किसी ने उनके आरोपों को सही नहीं बताया। रिपोर्ट की खास बात यह है कि डबास ने कंचनमाला, उनके कोच और पैरा तैराकों से फोन पर बात की और उनसे हुई बातचीत को बिना बताए हुए ही रिकॉर्ड किया। पीसीआइ के अध्यक्ष राव इंद्रजीत सिंह ने कहा कि ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि जिससे भविष्य में कोई झूठ नहीं बोल पाए। हमारे पास सुबूत के तौर पर उनकी ऑडियो रिकॉर्डिग है।

हालांकि इसके बाद जब कंचनमाला से संपर्क किया गया तो उन्होंने किसी पीसीआइ अधिकारी से बातचीत और जांच रिपोर्ट के बारे में जानकारी होने से इन्कार किया। जब इस पर पीसीआइ से फिर सवाल दागा गया तो उसके अधिकारी ने कहा कि हमारे पास जांच समिति द्वारा उनसे बातचीत की रिकॉर्डिग है। अगर वह लगातार झूठ बोलकर पीसीआइ को बदनाम करेंगी तो उन्हें भविष्य में टूर्नामेंट में खेलने से प्रतिबंधित भी किया जा सकता है।

वहीं, खेल मंत्रालय पहले ही इस मामले में पीसीआइ को कारण बताओ नोटिस जारी करने वाला है। इससे पहले ही पीसीआइ की जांच रिपोर्ट में यह कहा गया है कि कंचनमाला ने बर्लिन में धन की कमी की वजह से भीख नहीं मांगीं। इसकी जगह उन्होंने अपने ही कुछ साथियों से धन लिया क्योंकि वहां ट्रॉम में बिना टिकट के यात्रा करने के कारण उन्हें 120 यूरो का जुर्माना भरना पड़ा। यही नहीं इस रिपोर्ट में कहा गया है कि कोच कंवलजीत ने पहले ही सभी पैरा तैराकों को बता दिया था कि पीसीआइ सभी का हवाई टिकट करा रहा है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के कारण धन नहीं निकाला जा सकता इसलिए सभी एथलीटों को अपने बाकी खर्चे उठाने होंगे और उन्हें वापस लौटने पर वह धन वापस हो जाएगा।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

By
Pradeep Sehgal 

Tags:
author

Author: