जब 25 रन पर सिमट गई एक दिग्गज टीम, खिलाड़ियों के स्कोर ने उड़ा दिए होश

जब 25 रन पर सिमट गई एक दिग्गज टीम, खिलाड़ियों के स्कोर ने उड़ा दिए होशजब 25 रन पर सिमट गई एक दिग्गज टीम, खिलाड़ियों के स्कोर ने उड़ा दिए होश

नई दिल्ली, [स्पेशल डेस्क]। क्रिकेट में नामुमकिन चीजें कई बार मुमकिन होती नजर आई हैं और इसी का सबूत था एक ऐसा मैच जिसने सबके होश उड़ा दिए थे। दो बार की विश्व चैंंपियन वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के इतिहास में आज का दिन शर्मसार करने वाला था। 

– एतिहासिक मैच

हम बात कर रहे हैं 2 जुलाई 1969 की। जी हां, वो आज ही का दिन का था जब क्रिकेट फैंस ने वो होता देखा था जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी। मुकाबला वेस्टइंडीज और आयरलैंड की टीम के बीच था। ये ‘एक दिन का मैच’ था। टेस्ट की तरह दोनों टीमों को दो-दो पारियों का मौका मिलना था लेकिन समय एक दिन का ही था। मैच से पहले ही ये करार हो गया था कि अगर दोनों पारियां समाप्त नहीं हो सकीं तो पहली पारी को देखते हुए विजेता घोषित कर दिया जाएगा।

– वेस्टइंडीज ने टॉस जीता, पहले बल्लेबाजी का फैसला

वेस्टइंडीज की अगुआइ बासिल बुचर के हाथों में थी। टीम में क्लाइव लॉयड, क्लाइड वॉलकॉट, मॉरिस फॉस्टर जैसे तमाम खिलाड़ी मौजूद थे जो आयरलैंड की गेंदबाजी को तहस-नहस करने का दम रखते थे..लेकिन जो हुआ वो बेहद अजीब था। वेस्टइंडीज की टीम ने अपना पहले दो विकेट एक रन पर गंवा दिए, तीसरा विकेट तीन रन पर, चौथा और पांचवां विकेट छह रन पर, छठा विकेट आठ रन पर, सातवां, आठवां और नौवां विकेट 12 रन पर और दसवां विकेट 25 रन पर गिर गया। पूरी कैरेबियाई टीम 25.3 ओवर में 25 रन पर सिमट गई। आलम ये था कि पूरी टीम में कोई भी बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा पार नहीं कर सका था।

– सिर्फ दो गेंदबाजों ने समेट दिया

वेस्टइंडीज 25 रन पर सिमट गई थी। ये हैरान करने वाला स्कोर था लेकिन एक और हैरानी वाली बात ये थी कि आयरलैंड की तरफ से सिर्फ दो ही गेंदबाजों को लगाया गया था। एलेक ओ’ रियोर्डिन और डगलस गुडविन। एलेक ने 13 ओवर में 18 रन लेते हुए 4 विकेट लिए थे जिसमें आठ मेडन ओवर शामिल थे जबकि गुडविन ने इससे भी घातक गेंदबाजी की। उन्होंने 12.3 ओवर में कुल 6 रन लुटाते हुए 5 विकेट हासिल किए थे। गुडविन ने भी आठ ओवर मेडन फेंके थे।

– कुछ ऐसा था वेस्टइंडीज का स्कोरबोर्ड

स्टीव कमाचो – 1

जोइ केरयू – 0

मॉरिस फॉस्टर – 2

बासिल बुचर – 2

क्लाइव लॉयड – 1

सर क्लाइड वॉलकॉट – 6

जॉन शेफर्ड – 0

माइक फिंडले – 0

ग्रेसन शिलिंगफोर्ड – 9

पीआर रॉबर्ट्स – 0

फिलबर्ट ब्लेयर – 3

– आयरलैंड का जवाब

जवाब में आयरलैंड की टीम ने इन स्थितियों के बावजूद अच्छी बल्लेबाजी की। आयरलैंड की तरफ से ओपनर डेविड पिगोट ने 37 और चार विकेट लेने वाले ऑलराउंडर एलेक रियोर्डिन ने 35 रन बनाए। उन्होंने 47.2 ओवर तक बल्लेबाजी करते हुए आठ विकेट के नुकसान पर 125 रन बनाकर पारी घोषित कर दी और वेस्टइंडीज को दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने का न्योता दिया। दूसरी पारी में वेस्टइंडीज ने अपने कप्तान बासिल बुचर के अर्धशतक के दम पर 34 ओवर में 4 विकेट नुकसान पर 78 रन बना लिए थे लेकिन इसके साथ ही दिन समाप्त हुआ और करार के मुताबिक पहली पारी को देखते हुए आयरलैंड को विजेता घोषित किया गया। 

– क्या थी वजह?

दरअसल, आज सबसे कमजोर टीम दिखने वाली आयरलैंड को उस समय भी कोई गंभीरता से नहीं लेता था। जब  वेस्टइंडीज की टीम को ये पता चला कि उन्हें आयरलैंड के खिलाफ मैच खेलना है तो गैरी सोबर्स सहित टीम के पांच खिलाड़ियों को आराम दे दिया गया था। हालांकि सिर्फ इसे उनकी असफलता का कारण नहीं माना जा सकता क्योंकि इन पांच खिलाड़ियों को बाहर बिठाने के बावजूद टीम में क्लाइव लॉयड, बासिल बुचर और सर क्लाइड वॉलकॉट जैसे महान क्रिकेटर मौजूद थे। बाद में वेस्टइंडीज ने इस मुकाबले के छह साल बाद 1975 में हुआ पहला वनडे विश्व कप अपने नाम किया था।

 

By
Shivam Awasthi 

Tags:
author

Author: