जनता की भावना और मीडिया के बनाए माहौल पर फैसला नहीं- हाईकोर्ट

मुंबई: बम्बई हाईकोर्ट ने सुपरस्टार सलमान खान को गुरुवार को बड़ी राहत देते हुए 28 सितंबर 2002 के ‘हिट एंड रन’ मामले में सभी आरोपों से बरी कर दिया. न्यायमूर्ति ए.आर. जोशी ने बहु-प्रतीक्षित फैसला सुनाते हुए कहा कि अभिनेता को 13 साल पुराने इस मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से पेश किए गए सबूतों के आधार पर ‘दोषी नहीं ठहराया जा सकता.’

 

जानें- कोर्ट ने क्या कहा?

 

1. सरकारी पक्ष सलमान खान के खिलाफ हर मोर्चो पर आरोपों को साबित करने में नाकाम रहा है.

 

2. अभियोजन पक्ष यह साबित करने में भी नाकाम रहा है कि सलमान नशे में थे और वही गाड़ी चला रहे थे.

 

3. अभियोजन पक्ष  ने जो सबूत पेश किए उन सबूतों के आधार पर सलमान खान को दोषी करार नहीं दिया जा सकता.

 

4. निचली अदालत से गलती हुई. उसने जो विश्लेषण किया वे सबूत न वैध थे और न उचित.

 

5. जनता की भावना और मीडिया की ओर से बनाए गए माहौल में बहकर कोर्ट फैसला नहीं दे सकता. कोर्ट सबूतों के आधार पर ही फैसला देता है.

 

6. घटिया तरीके से जांच की गई, खासकर खून के नमूने लेने का तरीका सही नहीं था.

Tags:
author

Author: