घर में अपनी आखिरी रेस को यादगार बनाना चाहेंगे फराह

घर में अपनी आखिरी रेस को यादगार बनाना चाहेंगे फराहघर में अपनी आखिरी रेस को यादगार बनाना चाहेंगे फराह

लंदन। ब्रिटेन के दिग्गज एथलीट मो फराह घरेलू मैदान पर रविवार को अपनी आखिरी रेस को प्रशंसकों के लिए यादगार बनाना चाहेंगे। बर्मिंघम में चल रही डायमंड लीग मीट में 34 वर्षीय फराह की कोशिश 3000 मीटर की दौड़ फतह करने की होगी। 

5000 और 10000 मीटर दौड़ में दो बार ओलंपिक चैंपियन रहे फराह 2011 के बाद पहली बार पिछले शनिवार को 5000 मीटर की रेस जीतने में नाकाम रहे थे। हालांकि वह दस हजार मीटर के खिताब का बचाव करने में सफल रहे थे। फराह ने कहा कि देश में आखिरी रेस को लेकर उनकी भावनाएं उफान पर होंगी। उन्होने कहा कि वाकई में यह बहुत भावनात्मक होने वाला है। मेरा करियर काफी लंबा रहा है और मैं यहां साल दर साल आता रहा हूं। मेरे लिए यह खास है। हम जीवन में जो भी शुरू करते हैं उसका खत्म होना जरूरी है। मुझे अपनी दौड़ का ख्याल रखना है और दूसरे धावकों का सम्मान करना हैं। मुझे रविवार को अपना काम अच्छे से करना है। अगले सप्ताह ज्यूरिख डायमंड लीग मीट के बाद संन्यास लेने की घोषणा कर चुके फराह ने कहा कि मेरे लिए जरूरी है कि मैं यहां जीत दर्ज करूं। मुझे लगता है लोग यह समझेंगे कि यह इतना आसान नहीं है क्योंकि वहां और भी एथलीट भाग ले रहे होंगे। मैं पूरी तरह फिट हूं और अगर जीत सका तो यह शानदार होगा। फराह अब अपना पूरा ध्यान मैराथन पर लगाएंगे। उन्होंने चार ओलंपिक और दस विश्व चैंपियनशिप के स्वर्ण सहित वैश्विक स्तर पर कुल 12 पदक जीते हैं। 

 

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

By
Sanjay Savern 

Tags:
author

Author: 

घर में अपनी आखिरी रेस को यादगार बनाना चाहेंगे फराह

घर में अपनी आखिरी रेस को यादगार बनाना चाहेंगे फराहघर में अपनी आखिरी रेस को यादगार बनाना चाहेंगे फराह

लंदन। ब्रिटेन के दिग्गज एथलीट मो फराह घरेलू मैदान पर रविवार को अपनी आखिरी रेस को प्रशंसकों के लिए यादगार बनाना चाहेंगे। बर्मिंघम में चल रही डायमंड लीग मीट में 34 वर्षीय फराह की कोशिश 3000 मीटर की दौड़ फतह करने की होगी। 

5000 और 10000 मीटर दौड़ में दो बार ओलंपिक चैंपियन रहे फराह 2011 के बाद पहली बार पिछले शनिवार को 5000 मीटर की रेस जीतने में नाकाम रहे थे। हालांकि वह दस हजार मीटर के खिताब का बचाव करने में सफल रहे थे। फराह ने कहा कि देश में आखिरी रेस को लेकर उनकी भावनाएं उफान पर होंगी। उन्होने कहा कि वाकई में यह बहुत भावनात्मक होने वाला है। मेरा करियर काफी लंबा रहा है और मैं यहां साल दर साल आता रहा हूं। मेरे लिए यह खास है। हम जीवन में जो भी शुरू करते हैं उसका खत्म होना जरूरी है। मुझे अपनी दौड़ का ख्याल रखना है और दूसरे धावकों का सम्मान करना हैं। मुझे रविवार को अपना काम अच्छे से करना है। अगले सप्ताह ज्यूरिख डायमंड लीग मीट के बाद संन्यास लेने की घोषणा कर चुके फराह ने कहा कि मेरे लिए जरूरी है कि मैं यहां जीत दर्ज करूं। मुझे लगता है लोग यह समझेंगे कि यह इतना आसान नहीं है क्योंकि वहां और भी एथलीट भाग ले रहे होंगे। मैं पूरी तरह फिट हूं और अगर जीत सका तो यह शानदार होगा। फराह अब अपना पूरा ध्यान मैराथन पर लगाएंगे। उन्होंने चार ओलंपिक और दस विश्व चैंपियनशिप के स्वर्ण सहित वैश्विक स्तर पर कुल 12 पदक जीते हैं। 

 

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

By
Sanjay Savern 

Tags:
author

Author: