क्या भारत पर श्रीलंका करेगा ये ‘रहस्यमयी’ वार, मलिंगा नहीं..अब मलिंदा की बारी

क्या भारत पर श्रीलंका करेगा ये ‘रहस्यमयी’ वार, मलिंगा नहीं..अब मलिंदा की बारी

शिवम् अवस्थी, नई दिल्ली, [स्पेशल डेस्क]। भारतीय टीम एक बार फिर श्रीलंकाई जमीन पर खेलने को तैयार है। बुधवार से दोनों टीमों के बीच टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला शुरू होने जा रहा है। हम एक ऐसे देश में खेलने जा रहे हैं जहां पिछले तीन सालों में कोई भी टेस्ट मैच बेनतीजा नहीं रहा है। ऐसे में हर वार अहम होगा और ऐसे ही एक प्रहार की तैयारी श्रीलंका कर रहा है। ये वार टीम इंडिया के लिए रहस्यमयी होगा और उन्हें इस वार से बचकर रहना होगा।

– अब मलिंगा नहीं….मलिंदा

तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा के दौर से श्रीलंका अब आगे निकल चुका है। अब बारी है मलिंदा की। हम बात कर रहे हैं श्रीलंकाई टीम में शामिल हुए एक नए चेहरे की जिनका नाम है मलिंदा पुष्पाकुमारा। इस 30 वर्षीय ऑलराउंडर को श्रीलंका ने अपनी टीम में शामिल किया है और वो अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर का आगाज करने उतरेंगे। आज तक भारतीय टीम के खिलाड़ियों ने इस धुरंधर का सामना नहीं किया है। मलिंदा की खासियत है उनकी स्पिन गेंदबाजी और बाएं हाथ का स्पिनर होते हुए वो बल्लेबाजों के लिए और भी घातक हो जाते हैं।

– पहले ही मैच में अपने नाम करेंगे ‘शतक’

मलिंदा का नाम बेशक भारतीय फैंस आज सुन रहे हैं लेकिन श्रीलंका के घरेलू क्रिकेट वो काफी चर्चित चेहरों में से एक हैं। अगर उन्हें बुधवार को भारत के खिलाफ अपने टेस्ट करियर का आगाज करने का मौका मिला तो उनके प्रथम श्रेणी क्रिकेट मैचों की संख्या 100 हो जाएगी। यानी मैदान पर उतरते ही वो अपने इस खास शतक को पूरा करेंगे। मलिंदा ने 2006 में कुरुनेगला यूथ क्रिकेट क्लब से खेलते हुए अपने प्रथम श्रेणी क्रिकेट करियर का आगाज किया था।

– बेमिसाल हैं आंकड़े

इस बाएं हाथ के स्पिनर ने अपने घरेलू क्रिकेट करियर में अब तक शानदार आंकड़े दर्ज किए हैं। मलिंदा ने अब तक 99 प्रथम श्रेणी क्रिकेट मैचों में 19.85 की औसत से 558 विकेट लिए हैं। इस दौरान उन्होंने 18 बार दस विकेट लिए हैं, 44 बार पांच या उससे ज्यादा विकेट लिए हैं और 35 बार चार विकेट लेने का कमाल किया है। मलिंदा का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन भी लाजवाब रहा है। वो एक ही पारी में 46 रन देकर 9 विकेट लेने का कमाल कर चुके हैं जबकि एक मैच में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 13 विकेट हासिल करने का है। वैसे, मौका आने पर मलिंदा अच्छी बल्लेबाजी करने का दम भी रखते हैं। उनके नाम प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 1542 रन दर्ज हैं जिसमें चार अर्धशतक शामिल हैं।

– पिछले सीजन में तो गजब ही कर दिया

वैसे तो मलिंदा जब से क्रिकेट खेल रहे हैं, तभी से अपनी छाप छोड़ने में सफल रहे हैं..लेकिन पिछले घरेलू क्रिकेट सीजन में तो इस गेंदबाज ने ऐसा धमाल मचाया जिसने इस बार श्रीलंकाई चयनकर्ताओं को उन्हें राष्ट्रीय टीम में जगह देने के लिए मजबूर कर दिया। दरअसल, पिछले सीजन में इस बाएं हाथ के स्पिनर ने 13.79 की औसत से गेंदबाजी करते हुए एक ही सत्र में 77 विकेट हासिल कर लिए थे। वो सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी तो बने ही थे, साथ ही दूसरे नंबर पर मौजूद गेंदबाज से 20 विकेट का फासला भी रखा था।

– अब तक कहां थे?

इन आंकड़ो को देखने के बाद किसी के भी मन में ये सवाल जरूर उठेगा कि आखिर इतने शानदार आंकड़ों के बावजूद अब तक मलिंदा कहां थे, श्रीलंकाई टीम में उनकी एंट्री 30 की उम्र में क्यों हो रही है? दरअसल, श्रीलंकाई चयनकर्ता अपनी टीम में बाएं हाथ के दो स्पिनर नहीं रखना चाहते थे। रंगना हेराथ के रूप में उनकी टीम में पहले से ही एक स्टार स्पिनर मौजूद है और यही वजह रही कि मलिंदा को इतने दिन इंतजार करना पड़ा। रंगना हेराथ अब भी टीम में हैं और पहले मैच में कप्तानी भी करेंगे लेकिन इस बार मुमकिन है कि इन दोनों को मैदान पर उतार दिया जाए क्योंकि मुकाबला भारतीय टीम के खिलाफ है और पिछले साल भारत के खिलाफ सीरीज में भारतीय स्पिनर्स ने ही श्रीलंका के अरमानों पर पानी फेरा था। 

– भारत की तरफ से ये होगा जवाब

अगर श्रीलंका अपने बाएं हाथ के स्पिनर्स की ताकत दिखाने की कोशिश करेगा तो भारत भी पीछे रहने वाला नहीं है। इस बार भारत के पास भी ऐसा ही रहस्यमयी गेंदबाज मौजूद है जो इस समय पूरी दुनिया में सुर्खियां बटोर रहा है। जी हां, वो गेंदबाज और कोई नहीं बल्कि चाइनामेन गेंदबाज कुलदीप यादव हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने पहले टेस्ट से लेकर, वेस्टइंडीज दौरे पर शानदार प्रदर्शन और फिर श्रीलंका में अभ्यास मैच में भी अच्छा प्रदर्शन करने के बाद अब टीम इंडिया का ये युवा गेंदबाज श्रीलंकाई टीम को बेहाल करने के लिए तैयार है।

(फोटो साभारः संडे ऑब्जर्वर.एलके)

By
Shivam Awasthi 

Tags:
author

Author: