अपनी आखिरी रेस पूरी भी नहीं कर सके उसेन बोल्ट, नहीं मिली मनचाही विदाई

अपनी आखिरी रेस पूरी भी नहीं कर सके उसेन बोल्ट, नहीं मिली मनचाही विदाईअपनी आखिरी रेस पूरी भी नहीं कर सके उसेन बोल्ट, नहीं मिली मनचाही विदाई

नई दिल्ली, जेएनएन।  यह अंत तो बादशाह की तरह कतई नहीं था। जमैका के महान धावक उसेन बोल्ट के लिए उनके करियर की अंतिम रेस किसी भयावह सपने की तरह साबित हुई। लंदन में चल रही विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में शनिवार को जब वह चार गुणा चार सौ मीटर की रेस में दौड़ने उतरे तो दुनिया भर की नजरें उन पर टकटकी लगाए हुए थीं। लेकिन, आठ ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता बोल्ट अपने करियर की आखिरी रेस पूरी ही नहीं कर सके।

दौड़ते-दौड़ते अचानक उनके बायें पैर में क्रैंप आ गया और वह ट्रैक पर गिर पड़े। उनके गिरते ही ट्रैक के बादशाह की विदाई रुंआसी हो गई। चार गुणा चार सौ मीटर की स्पर्धा का स्वर्ण पदक ग्रेट ब्रिटेन ने 37.47 सेकेंड के साथ जीता। रजत पदक पर अमेरिका ने 37.52 सेकेंड के साथ हासिल किया। जापान 38.04 सेकेंड के साथ कांस्य पदक पर कब्जा जमाने में सफल रहा।

बोल्ट के साथ उनकी टीम में ओमार मैक्लॉड, जूलियन फोर्ट और योहान ब्लैक शामिल थे। मालूम हो कि 100 मीटर के विश्व रिकॉर्ड धारी और आठ ओलंपिक पदक विजेता बोल्ट को अपनी पिछली रेस में इसी प्रतियोगिता में 100 मीटर में जस्टिस गेटलिन से हार का सामना करना पड़ा था।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

By
Pradeep Sehgal 

Tags:
author

Author: